Stories for kids - गिन के बताओ कितने हे ।

Stories for kids में आज हम जानेंगे कैसे बीरबल ने चालाकी से जीता अखबर का दिल। 
क बार राजा अकबर अपने सभा में बैठा था। उसने अपने मंत्रिओं से काहा की हमारे राज्य में कितने कवे हे जो भी बताएगा में उससे पुरस्कृत करूँगा 500 स्वर्ण मुद्राओं से । सभा में एक खुसी की लेहेर खिल गयी। पर कुछ ही समाये बाद सब को समझ में आगया की ये करपाना कितना मुश्किल काम हे। फिर सभी परिषदों ने एक एक करके राजा को मना करदिया। राजा बड़ा ही मायूस हुआ, क्या उसके राज्य में ऐसा कोई भी नहीं जो राजा के इस ख्वाइश को पूरा कर सके ? राजा ने इस बात की घोसना पुरे राज्ञा में करवा दिया। पर परिणाम में कुछ भी हात  नहीं लगा। राजा ने निराश होके ये पुरस्कार वापस लेने को सोचा। Stories for kids

पर तभी अचानक एक दिन बीरबल सभा में आ धमका। राजा बीरबल को देख के पूछने लगा के कहाँ थे तुम। बीरबल ने जबाब दिया किसी बिसेष काम से राज्य से बहार गया हुआ था। लौट ते ही उसे राजा के इस पुरस्कार के वारेमे पता चला और वो तुरंत यहाँ चला आया। तो राजा ने उसे पूछा - क्या तुम मुझे गईं के बता सकते हो के राज्य में कितने कवे हे ? बीरबल ने काहा - जी हाँ माहाराज, में जरूर पता लगा सकता हूँ।  सभी मंत्री और परिसद बीरबल पर हसने लगे।  ये कह कर बीरबल अपने घर चला गया। Stories for kids

कुछ दिन बाद बीरबल फिर राज सभा में उपस्थित हुआ। अखबर ने जब उससे पूछा क्या तुम गईं के लाये हो के हमारे राज्य में कितने कवे हे ? टी बीरबल ने मुस्कुरा के जबाब दिया - जी हुजूर पूरा गिन लिया। सभी लोग एक दम हके  बके रेह गए। तभी राजा ने पूछा - तो बताओ कितने कवे हे हमारे राज्य में। बीरबल ने काहा महाराज पुरे 3050 कवे हे हमारे राज्य में। सभी लोग जो राज सभा में मौजूद थे उन्हने बीरबल पे सक जाहिर करते हुए कवे के गिनती करने के लिए कहा। तभी बीरबल ने कहा - महाराज जैसे हम कभी कभी अपने सगे सम्बन्धी के घर घूमने जाया करतें हे और सगे सम्बन्धी भी हमारे घर आया करतें हे , उसी तरा कवे भी अपने सगे सम्बन्धिओ से मिलने आया जाया करतें हे। अगर मेरे बताये हुए संख्या से काम हुआ तो समझ लीजिये के कुछ कवे बाहर घूमने गए हैं। और ज्यादा हुआ तो कुछ बहार राज्य के कवे हमारे यहाँ ए हुए हे। Stories for kids

बीरबल की बात सुन के अख़बार हसने लगा। और उसे समझ में आगया की बीरबल बेहत चालाकी से इस सवाल का जबाब निकल लाया हे। राजा बीरबल की चालाकी से खुस होके उसे स्वर्ण मुद्राओं से पुरस्कृत किया।

काहानी का तात्पर्य -
अगर आपके पास बुद्धि हे तो आप को वे बजह के तकलीफ करने की जरुरत नहीं पड़ेगी। Stories for kids

Post a Comment

0 Comments